कान में जमा मैल साफ करने के 9 सरल घरेलू उपाय, सुनने की शक्ति चार गुना बढ़ जाएगी – How to clean earwax in Hindi

हम रोज नहाते समय अपने शरीर को साफ करते हैं, लेकिन हमारे शरीर के कुछ हिस्से ऐसे होते हैं जिन्हें साफ करना हमारे लिए बहुत मुश्किल होता है। कान जैसे शरीर के छोटे-छोटे हिस्सों को साफ करना बहुत मुश्किल है। कई लोग कई सालों से गलत तरीके से अपने कान साफ ​​कर रहे हैं।

यदि आप नियमित रूप से अपने कान साफ ​​नहीं करते हैं, तो आपको कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। कान की सफाई न करना भी बड़ी बीमारियों को न्योता दे सकता है। अगर कान की सफाई नहीं की जाती है, तो कान में गंदगी जमा हो जाती है और कान दर्द की समस्या अक्सर देखने को मिलती है।

नतीजतन, जैसे कि कान में संक्रमण, और अत्यधिक ईयरवैक्स होने का खतरा होता है, जो कभी-कभी आपको कष्टदायी दर्द और यहां तक ​​कि सुनने की हानि का कारण बन सकता है। यदि कान दर्द करता है और आप अपने कानों को लंबे समय तक साफ नही करते हैं, तो आपको निश्चित रूप से एक बड़ी बीमारी से निपटना होगा।

कान का मैल क्यों बनता है

कान में मैल जमना/ बनना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। यह शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र के रूप में ही काम करता है। कान में मैल होने की वजह से बाहरी कण व अन्य बैक्टीरिया कान में नहीं जा पाते हैं। शुरूआती दौर में यह एक तरह के ल्युब्रिकेंट की तरह होता है, जो बाहरी गंदगी को अंदर जाने से रोककर बैक्टीरिया को पनपने नहीं देता है। बाद में यह कठोर हो जाता है। यह आंतरिक कान और कान के पर्दे को सुरक्षित रखता है। कान में होने वाले मैल को रोजाना साफ नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसके अधिक होने से पहले व कान की अन्य किसी तरह की समस्या से बचने के लिए इसको सही समय पर साफ किया जाना बेहद जरूरी होता है।

आज हम आपको कान साफ ​​करने के 9 बेहद आसान घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं।

कान का मैल साफ करने के घरेलू उपाय

1. नारियल तेल / बेबी आयल:

नारियल तेल/बेबी आयल को हल्का सा गर्म कर लें। इसके बाद नारियल तेल/बेबी आयल की कुछ बूंदों को कान में डालना होगा। इससे थोड़े समय में आपके कान का मैल नरम हो जाएगी और इससे कान का मैल आसानी से बाहर आ जाएगी। जब भी आपको अपने कान में मैल महसूस हो, इस प्रक्रिया को कर लें।

यह कैसे काम करता है: नारियल तेल से कान का मैल साफ करने का तरीका बेदह ही पुराना है। नारियल के तेल में सीबम की तरह ही फैटी एसिड होते हैं, जिससे त्वचा पर किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती है। यह सुक्ष्म जीवों को पनपने नहीं देता और संक्रमण के खतरे को भी कम करता है। साथ ही साथ नारियल का तेल कान के मैल से उत्पन्न होने वाले कई तरह के बैक्टीरिया को भी मारता है।

2. नमक का पानी:

इयरवैक्स से छुटकारा पाने का एक और तरीका बहुत आसान है। सबसे पहले आधा कप गर्म पानी लें और उसमें एक चम्मच नमक मिलाएं। फिर मिश्रण में कपास का एक टुकड़ा भिगोएँ और कान में पानी निचोड़ें। लेकिन याद रखें कि पानी अच्छी तरह से घुसना चाहिए। और फिर कान को उल्टा करके उसमें से सारा पानी निकाल लें।

यह कैसे काम करता है: नमक का पानी कान के मैल को निकालने वाली दवाओं की तरह कारगर सिद्ध होता है।


3. हाइड्रोजन पेरोक्साइड:

तीसरी विधि में हाइड्रोजन पेरोक्साइड और पानी की समान मात्रा लें और कान में डालें। इसे कान में ठीक से डालने के बाद कान को कुछ समय के लिए रोककर रखें। थोड़ी देर के बाद, कान को घुमाएं और मिश्रण को बाहर आने दें। यानी पानी निकलेगा।

लेकिन ध्यान रखें कि हाइड्रोजन पेरोक्साइड की मात्रा 3% से अधिक नहीं होनी चाहिए और पानी भी समान होना चाहिए। इसके इस्तेमाल से कान की गंदगी भी आसानी से निकल जाती है।

4. जैतून का तेल:

जैतून के तेल से कान की गंदगी को भी हटाया जा सकता है। इसके साथ, आपको रात में सोते समय जैतून के तेल की कुछ बूंदें अपने कानों में डालनी होंगी। और लगभग 3 से 4 दिनों तक इस काम को करने के बाद, गंदगी नरम हो जाएगी और मोम आसानी से बाहर आ जाएगा।

यह कैसे काम करता है: जैतून का तेल जल्द ही सख्त हुए मैल को नरम बना देता है। जैतून के तेल की चिकनाई से कान का मैल नरम हो जाता है और वह आसानी से बाहर आ जाता है। कुछ अध्ययन इस बात को बताते हैं कि जैतून के तेल से कई तरह के बैक्टीरिया को नष्ट किया जा सकता है।

5. गर्म पानी:

पांचवा उपाय सबसे सरल है। इस उपाय को आप नहाते समय कर सकते हैं। इसके लिए आपको नहाते समय अपने कानों में गर्म पानी डालना होगा।

नहाने के बाद कानों को नम कपड़े या ईयरबड से साफ करें। यह सबसे सरल और सबसे प्रभावी तरीका है। नहाने के बाद एयरवाक्स नरम हो जाता है, जिसे नहाने के बाद कान से आसानी से निकाला जा सकता है। और इस प्रकार ईयरवैक्स से जल्दी छुटकारा पाना संभव था।

6. बादाम के तेल:

बादाम के तेल को गुनगुना करने के बाद आप इसको अपने मैल वाले कान में डाल लें। इसकी 2 से 4 बूंदों को ही कान में डालें। जरूरत के मुताबिक आप इसका उपयोग कर सकते हैं।

यह कैसे काम करता है: कान के मैल को बाहर निकालने के लिए बादाम के तेल का इस्तेमाल किया जाता है। यह ल्युब्रिकेंट की तरह काम करता है। इससे मैल नरम हो जाता है और इसके बाहर आने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती।

7. बेकिंग सोडा:

बेकिंग सोडे को पानी में अच्छी तरह से मिला लें। इसके बाद ड्रॉपर की मदद से मैल वाले कान में इस मिश्रण की कुछ बूंदों को डालें। इसके बाद कुछ मिनटों तक आप अपना सिर एक ही तरफ झुकाए रखें, ताकि आपका मैल सही तरह से भीग जाए। जब मैल कान से बाहर आ जाए तो आप सूती कपड़े से कान को साफ कर लें। इस उपाय को आप एक या दो दिनों के अंतराल में कर सकते हैं।

यह कैसे काम करता है: बेकिंग सोडा कान के मैल को साफ करने की प्राकृतिक दवा के रूप में काम करता है। यह एंटिसेप्टिक होने के साथ ही कान के मैल को नरम करके बाहर निकालता है।

8. लहसुन का तेल:

एक पैन में तेल को डाल लें। इसके बाद तेल हल्का सा गर्म कर लें। वहीं दूसरी ओर लहसुन की कलियों को छीलकर उनको थोड़ा से कूट लें और फिर इनको तेल में डाल दें। इसके बाद इस तेल को तेज आंच में गर्म कर लें। कुछ देर के बाद तेल को गैस से उतार कर सामान्य तापमान में आने दें। तेल के सामान्य तापमान में आने पर आप इसकी कुछ बूंदों को अपने कान में डाल लें। कुछ समय के लिए एक ही अवस्था में रहें। फिर कान को नीचे की ओर कर लें। इससे आपके कान का मैल बाहर आ जाएगा। रात को सोने से पहले आप इस प्रयोग को अपनाएं और रात भर तेल को कान में ही रहने दें। अगली सुबह कान के मैल को साफ कर लें।

यह कैसे काम करता है: अगर आपको कान के मैल की वजह से तेज दर्द हो रहा हो तो आपके लिए लहसुन का तेल काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। लहसुन में एलिसिन (Allicin) नामक तत्व होता है, जो एक प्राकृतिक एंटीबॉयोटिक के रूप में जाना जाता है। इससे कान के मध्य व अंदरूनी संक्रमण होने का खतरा कम हो जाता है। यह कान में होने वाले दर्द को भी दूर करता है।

9. ग्लिसरीन का प्रयोग करें:

कान में ड्रॉपर की मदद से ग्लिसरीन की कुछ बूंदों को डालें। इससे आपके कान का मैल जल्द ही नरम होकर बाहर आ जाता है। इस प्रक्रिया को दिन में एक या दो बार अपनाएं।

यह कैसे काम करता है: कान के मैल को साफ करने वाली कई दवाओं में ग्लिसरीन का प्रयोग होता है। ग्लिसरीन नमीं प्रदान करने का बेहतर विकल्प होता है। इसके साथ ही साथ इसको एक ल्युब्रिकेंट के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। यह कान के मैल को निकालने का सुरक्षित घरेलू उपाय है।

FOLLOW US ON:

follow 360HealthyWays on Pinterest
follow 360HealthyWays on Facebook

Related Post:



Leave a Reply