pregnancy me kitna pani piye: क्या प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा पानी पीना चाहिए? यहां जानें सही जवाब – how much water should you drink during pregnancy heres the answer

फिट और हेल्दी रहने के लिए हमें हर दिन 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए ये तो हम सभी जानते हैं लेकिन क्या प्रेग्नेंसी के दौरान हमें ज्यादा पानी पीना चाहिए। क्या है इसके पीछे का लॉजिक और पानी की कमी के क्या नुकसान हो सकते हैं इस बारे में यहां जानें।

Published By Neha Seth | 360healthyways.com | Updated:

NBT

हमारी शरीर का करीब 60 फीसदी हिस्सा पानी से बना हुआ है। पानी, शरीर के लिए सबसे जरूरी है क्योंकि पानी, हानिकारक टॉक्सिन्स को पसीना और यूरिन के जरिए शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है। पानी हमारे शरीर के तापमान को नॉर्मल बनाए रखने में मदद करता है, ब्रेन के सभी फंक्शन्स सही तरीके से हो पाएं इसमें भी हेल्प करता है, पोषक तत्वों को शरीर के अलग-अलग हिस्सों तक पहुंचाने में मदद करता है। कुल मिलाकर देखें तो पानी हमारे शरीर के लिए बेहद जरूरी है और इसके बिना हमारा काम नहीं चल सकता है।

प्रेग्नेंसी के दौरान भी पानी पीने के हैं कई फायदे

1. पानी, आपके शरीर से न्यूट्रिएंट्स लेकर होने वाले बच्चे तक पहुंचने में मदद करता है

2. शरीर में अमीनो ऐसिड फ्लूइड के लेवल को बरकरार रखने में मदद करता है

3. प्रेग्नेंसी में अक्सर कब्ज, ब्लैडर इंफेक्शन और सूजन की दिक्कत हो जाती है, लेकिन अगर आप नियमित रूप से पानी पीते रहें तो इन समस्याओं से बचा जा सकता है।

प्रेग्नेंसी में पेट दर्द हो तो घबराएं नहीं, यूं पाएं छुटकारा

क्या प्रेग्नेंट महिला को ज्यादा पानी पीना चाहिए

ऐसे में बड़ा सवाल कि क्या प्रेग्नेंसी के दौरान आम दिनों की तुलना में ज्यादा पीना चाहिए? तो इसका जवाब ये है कि हर महिला की जरूरत और शरीर के हिसाब से पानी की मात्रा अलग-अलग हो सकती है। लेकिन एक जनरल रूल के मुताबिक फिट रहने के लिए हर व्यक्ति को डेली 2-3 लीटर या 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए। पानी की इस लिमिट में पानी के साथ जूस, सूप और वैसे फल और सब्जियां भी शामिल हैं जिनमें पानी होता है।

प्रेग्नेंसी के दौरान भूल से भी न करें ये 5 गलतियांप्रेग्नेंसी के दौरान भूल से भी न करें ये 5 गलतियांजब बात प्रेग्नेंसी की आती है तो ड्रग्स और ऐल्कॉहॉल के अलावा भी कई चीजें जिनसे आपको बचना चाहिए, वैसे तो इन 9 महीनों में आप नॉर्मल लाइफ जी सकती हैं, लेकिन कुछ गलतियां भूल से भी नहीं करनी चाहिए।

27वें हफ्ते के बाद बढ़ाएं पानी का इनटेक

प्रेग्नेंसी के 25-27वें हफ्ते तक तो आप पानी का इनटेक नॉर्मल रख सकती हैं यानी आम दिनों में जितना पानी पीती हैं उतना ही पानी पिएं। लेकिन उसके बाद जैसे-जैसे आपके बच्चे की ग्रोथ बढ़ती जाती है आपको भी अपने पानी और दूसरे लिक्विड फूड्स का इनटेक आधा लीटर के करीब बढ़ाना चाहिए। लेकिन अगर आपका वजन अधिक है या फिर अगर आप ज्यादा खाना खा रही हैं तो आपको ज्यादा पानी पीना चाहिए। साथ ही साथ चाय, सोडा और कैफीन वाली चीजों का सेवन न करें क्योंकि इनसे डिहाइड्रेशन का खतरा रहता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अगर डिहाइड्रेशन हो जाए तो इससे न सिर्फ होने वाली मां को थकान महसूस होती है और कब्ज की दिक्कत हो सकती है बल्कि होने वाले बच्चे को भी काफी खतरा रहता है।

जल्दी प्रेग्नेंट होना चाहती हैं तो इन 7 स्टेप्स को करें फॉलो


प्रेग्नेंसी में डिहाइड्रेशन से बचना है जरूरी

कई बार सही क्वॉन्टिटी में पानी पीने के बाद भी डिहाइड्रेशन हो जाती है और ऐसे में आपको अपना फ्लूइड इनटेक बढ़ाना चाहिए। आप चाहें तो सादे पानी की जगह नारियल पानी, नींबू पानी जैसी चीजें भी पी सकती हैं। आपके शरीर में कहीं पानी की कमी तो नहीं हो रही इसकी जांच के लिए अपने यूरिन के रंग पर नजर रखें। अगर इसका रंग डार्क येलो है तो आपको अपना लिक्विड इनटेक और पीने के पानी की मात्रा को बढ़ाने की जरूरत है।

​चॉकलेट क्रेविंग्स

  • ​चॉकलेट क्रेविंग्स

    जहां तक बात चॉकलेट की है तो इसका प्रेग्नेंसी से कुछ खास लेना देना नहीं है। आप प्रेग्नेंट है या नहीं, हर सूरत में ज्यादातर लोगों को चॉकलेट बहुत पसंद होती है खासकर फीमेल्स को। चॉकलेट ऐसी चीज है जिसे आप कितना भी खाएं मन नहीं भरता। लेकिन कई बार प्रेग्नेंसी में क्रेविंग्स इतनी बढ़ जाती हैं कि बस दिल करता है हर वक्त चॉकलेट खाते रहें। लेकिन कहीं आपकी ये एक्सेस चॉकलेट होने वाले बच्चे को नुकसान न पहुंचा दे? अगर आपके मन में भी इस तरह के सवाल हैं कि प्रेग्नेंसी में चॉकलेट खानी चाहिए या नहीं, तो इस बारे में यहां जानें, पूरी डीटेल…

  • ​क्या प्रेग्नेंसी में चॉकलेट खाना सेफ है?

    इस बारे में अब तक कई स्टडीज हो चुकी है जिसमें यह बात जानने की कोशिश की गई गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा चॉकलेट खानी चाहिए या नहीं। इन सभी स्टडीज में यही बात सामने आयी कि चॉकलेट, आपके होने वाले बच्चे यानी भ्रूण के ग्रोथ और विकास दोनों में मदद करती है। लिहाजा प्रेग्नेंकी के दौरान चॉकलेट खाना सेफ है, लेकिन एक लिमिट में रहकर क्योंकि चॉकलेट में कैफीन होती है और बहुत ज्यादा चॉकलेट नुकसानदेह हो सकती है। साथ ही साथ ज्यादा चॉकलेट खाने से आपकी भूख खत्म हो जाएगी और फिर आप किसी भी तरह की हेल्दी चीजें नहीं खा पाएंगी।

  • ​कितनी चॉकलेट खानी चाहिए?

    प्रेग्नेंसी के दौरान कितनी चॉकलेट खानी है ये बात पूरी तरह से आपके हेल्थ पर निर्भर करती है और इसके लिए अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें। वही बता पाएंगे कि आपके लिए चॉकलेट का सेफ लिमिट क्या है। साथ ही साथ प्रोसेस्ड चॉकलेट खाने की बजाए प्योर चॉकलेट का सेवन करें।

  • ​कौन सी चॉकलेट है बेस्ट?

    डार्क चॉकलेट ही प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए बेस्ट मानी जाती है क्योंकि वह उनकी और होने वाले बच्चे की सेहत के लिए फायदेमंद है। अगर आपको मार्केट में ऐसी डार्क चॉकलेट मिल जाए जिसमें स्वीटरनर्स और रिफाइंड शुगर कम हो तो वैसी चॉकलेट आपके लिए सही रहेगी।

  • ​प्रीक्लैम्प्सिया की दिक्कत नहीं होती

    चॉकलेट खाने से न सिर्फ आपका बच्चा हेल्दी रहता है बल्कि प्रीक्लैम्पिसाया यानी प्रेग्नेंसी में अचानक ब्लड प्रेशर और प्रोटीन लेवल बढ़ने की दिक्कत भी दूर हो जाती है। साथ ही साथ प्लैसेंटा जो मां के शरीर से पोषक तत्वों को बच्चे तक पहुंचाता का फंक्शन भी बेहतर तरीके से काम करता है।

  • ​ऐंटिऑक्सिडेंट्स का सोर्स

    चॉकलेट्स में मौजूद फ्लैवनॉयड्स ऐंटिऑक्सिडेंट्स का बेहतरीन सोर्स है जो गर्भवती महिला का इम्यूनिटी लेवल सुधारने में मदद करता है।

  • ​स्ट्रेस होता है दूर

    डार्क चॉकलेट्स मूड इन्हैनसर का काम करते हैं यानी इन्हें खाने से आपका स्ट्रेस कम होता है, मूड बेहतर होता है और साथ ही साथ ब्रेन में इन्डॉर्फिन और सेरोटोनिन का लेवल भी बढ़ता है। साथ ही साथ चॉकलेट खाने से थकान भी कम होती है।

  • ​आपका बच्चा होगा हैपी

    रिसर्च में यह बात साबित हो चुकी है कि जो महिलाएं प्रेग्नेंसी में डार्क चॉकलेट खाती हैं उनका किसी भी तरह के मटरनल स्ट्रेस से बचा रहाता है और जन्म के बाद उनका बच्चा हैपी हैपी रहता है।

  • ​मिसकैरिज का खतरा कम

    हालांकि इस बात के कोई पुख्ता सबूत नहीं हैं लेकिन कई स्टडीज में यह बात भी साबित हो चुकी है कि प्रेग्नेंट महिलाएं जो हर दिन लिमिटेड मात्रा में चॉकलेट खाती हैं उनमें प्रेग्नेंसी से शुरुआती 3 महीने में मिसकैरिज होने का खतरा 20 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

Web Title how much water should you drink during pregnancy heres the answer(News in Hindi from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

Related Post:



Leave a Reply